148705516_3140358139524420_4794002235350525698_o

श्रीमती गार्गी कक्कड़

गुरुग्राम भाजपा जिला अध्यक्ष

जन्म : गुरुग्राम भाजपा जिला अध्यक्ष श्रीमती गार्गी कक्कड़ का जन्म 23 दिसम्बर 1969 को हिमाचल प्रदेश के ऊना में हुआ ।

राजनीतिक सफर: वह बचपन से ही देश के लिए समर्पित होकर कुछ करना चाहती थी। इसी सोच के साथ वह भारतीय जनता पार्टी के साथ जुडी और वह भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व में आगे बढ़ने लगी । जिला अध्यक्ष श्रीमती गार्गी कक्कड़ जी 1992 में भारतीय जनता पार्टी से जुडी । 1992 से वह भारतीय जनता पार्टी की बूथ सदस्य बनी, उसके बाद वह बूथ सचिव बनी। 15 अगस्त 1996 में भारतीय जनता पार्टी की सक्रिय सदस्य बनी और युवा मोर्चा में मंडल सचिव बनी । वह महिला मोर्चा में मंडल महामंत्री भी बनी ।वह 2005 से 2010 तक गुरुग्राम नगर निगम की पार्षद रही , गार्गी जी 2 बार जिला महामंत्री रही । जिस समय मेवात और गुरुग्राम एक ही जिला थे उस समय जिले में अकेली महामंत्री रही । गार्गी जी जिला महिला मोर्चा में भी महामंत्री रही । वह हरियाणा भाजपा महिला मोर्चा प्रदेश उपाध्यक्ष भी रही ।

2017 में उन्हें खादी बोर्ड का चेयरमैन नियुक्त किया गया । वह इस पद पर 2020 तक रही । 17 अगस्त 2020 में उन्हें गुरुग्राम भाजपा का जिला अध्यक्ष नियुक्त किया गया । उन्होंने सदा स्वच्छ राजनीति को बढ़ावा दिया है । इसी सोच के साथ वह पार्टी को आगे बढ़ाने का कार्य कर रही है । लोगों के दुखों को जानने और उनके सुख-दुख में शामिल होने के लिए गार्गी जी हमेशा तत्पर रहती है ।

समाज सेवा: गार्गी जी विजय ज्योति संघ नामक संस्था भी वर्षो से बिना किसी सरकारी सहायता चला रही है । बड़े औद्योगिक घराने इस संस्था के साथ कंधे से कन्धा मिला कर चलते रहे । प्रबल इरादों की वाहिका श्रीमती गार्गी कक्कड़ समर्पित और निस्वार्थ भाव से इस संस्था को चलाती रही है । यह संस्था नारी उत्थान विषयों पर गाँव – गाँव में रंग मंच के माध्यम से नाटक मंचन और अन्य साहित्यिक व् सामाजिक गतिविधियों के द्वारा साक्षरता को प्रोत्साहित करके समाज में जागरूकता लेन का कार्य करती है, इसी के साथ ग्रामीण बच्चो को निशुल्क पाठय साम्रगी का वितरण , गाँवों में खेलो के आयोजन , नेत्रदान संकल्प, रक्तदान शिविर का आयोजन और भूकंप और बाढ़ पीड़ितों को राहत सामग्री भेज कर सहायता , अनाथ बचो के साथ दीपावली पर्व मनाने जैसे सराहनीय कार्य यह संस्था करती आयी है । इस संस्था ने 25 गांव में चलने वाला खेत खेलकूद प्रोत्साहन योजना की शुरुआत की । 2005 में इस परियोजना को तत्कालीन चौटाला सरकार ने भी आगे बढ़ाया किया है और आज इसके ब्लॉक वाइज कार्यक्रम चल रहे हैं ।